Pakistan में ट्रेन हादसे में मरनेवालों की संख्या बढ़कर 30 हुई, 100 घायल

Pakistan Train Accident

AP/PTI Photo

कराची. पाकिस्तान Pakistan के सिंध प्रांत में रविवार को एक एक्सप्रेस ट्रेन के कई डिब्बे पटरी से उतर जाने से 30 लोगों की मौत हो गई और करीब 100 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। हजारा एक्सप्रेस कराची से रावलपिंडी जा रही थी। यह ट्रेन नवाबशाह जिले में सरहरी रेलवे स्टेशन के पास पटरी से उतर गई। सरहरी कराची से 275 की दूरी पर स्थित है।

बेनजीराबाद डिवीजन के आयुक्त अब्बास बलूच ने एक बयान में कहा कि दुर्घटना में कम से कम 30 लोगों की मौत हो गई, जबकि एक डिब्बे में अभी भी यात्री फंसे हुए हैं। ‘डॉन’ अखबार की खबर के अनुसार, सिंध के मुख्यमंत्री सैयद मुराद अली शाह ने नवाबशाह के बेनजीराबाद के पीपुल्स मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मीडिया से बातचीत में मृतकों की संख्या की पुष्टि की।

उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर घायलों को कराची ले जाया जा सकता है और स्थानीय प्रशासन और स्वास्थ्य अधिकारियों को राहत और बचाव प्रयासों में तेजी लाने का निर्देश दिया। इससे पूर्व, संघीय रेल मंत्री साद रफीक ने मीडिया को बताया कि हताहतों की संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि अस्पताल में भर्ती कराए गए कुछ घायलों की हालत गंभीर है।

उन्होंने कहा कि लगभग 10 डिब्बे पटरी से उतर गए और दुर्घटना के कारणों की जांच की जा रही है। पाकिस्तान रेलवे के सुक्कुर मंडल वाणिज्यिक अधिकारी (डीसीओ) मोहसिन सियाल ने बताया कि मलबे से 22 में से 15 शव निकाल लिए गए हैं और पाकिस्तानी सेना बचाव कार्य में मदद कर रही है। टेलीविजन चैनल के फुटेज में सरहरी रेलवे स्टेशन के पास दुर्घटनास्थल पर ट्रेन के डिब्बे बुरी तरह क्षतिग्रस्त नजर आ रहे हैं। फुटेज में बचावकर्मी और पुलिसकर्मी पटरी से उतरे डिब्बों से लोगों को बाहर निकालते हुए दिखे। आम लोग भी बचाव कार्य में शामिल दिखे।

रहमान ने कहा, ‘‘फिलहाल, ध्यान बचाव कार्य और पटरी से उतरे डिब्बों से लोगों को निकालने पर है।” उन्होंने कहा कि दुर्घटना के कारण की जांच की जा रही है। सरकारी ‘रेडियो पाकिस्तान’ ने बताया कि पाकिस्तानी सेना और रेंजर्स ने दुर्घटनास्थल पर राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है। सेना प्रमुख जनरल असीम मुनीर के विशेष निर्देश पर बचाव अभियान शुरू किया गया। बचाव अभियान में सहायता के लिए अतिरिक्त सैनिकों को बुलाया गया। घायल लोगों को बचाने के लिए आर्मी एविएशन के हेलीकॉप्टर भी मौके पर पहुंच रहे हैं।

कराची में पाकिस्तान रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा कि कम से कम आठ डिब्बे पटरी से उतर गए और देरी से ब्रेक लगाने के कारण ज्यादा नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि प्रभावित डिब्बों को मशीन का इस्तेमाल करके कुछ घंटों में पटरी से हटा दिया जाएगा। प्रवक्ता ने कहा कि कराची से ट्रेनों के रवाना होने में देर हो सकती है। संघीय रेलवे और विमानन मंत्री ख्वाजा साद रफीक ने कहा कि ट्रेन में 1,000 से अधिक यात्री सवार थे। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि ट्रेन तय रफ्तार से जा रही थी। उन्होंने कहा कि सुक्कुर और नवाबशाह के अस्पतालों में आपात स्थिति लागू कर दी गई है।

‘डॉन’ अखबार ने मंत्री के हवाले से कहा, ‘‘या तो यांत्रिक खराबी हुई या कोई और गड़बड़ी हुई।” विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने सिंध सरकार को ट्रेन दुर्घटना में घायल यात्रियों को तत्काल उपचार प्रदान करने का निर्देश दिया और पीपीपी कार्यकर्ताओं से राहत और बचाव गतिविधियों में भाग लेने का आह्वान किया। बिलावल की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) सिंध प्रांत में सत्ता में है।

पाकिस्तान में पुराने ट्रैक रख-रखाव सिस्टम, सिग्नल समस्याओं, तकनीकी उपकरणों और पुराने इंजन के कारण रेलवे दुर्घटनाएं अक्सर होती रहती हैं। सिंध में सबसे भीषण ट्रेन दुर्घटना 1990 में सुक्कुर के पास हुई थी, जब 307 लोग मारे गए थे। रविवार की दुर्घटना से एक दिन पहले, कराची से सियालकोट जा रही अल्लामा इकबाल एक्सप्रेस के तीन डिब्बे पटरी से उतर गए लेकिन कोई जख्मी नहीं हुआ।

इस साल अप्रैल में दक्षिणी सिंध प्रांत के खैरपुर जिले में टांडो मस्ती खान के पास कराची से लाहौर जा रही कराची एक्सप्रेस के एक डिब्बे में आग लगने से सात लोगों की मौत हो गई थी। सात जून, 2021 को सिंध के घोटकी में दो एक्सप्रेस ट्रेन की टक्कर में 32 लोगों की मौत हो गई थी और 64 घायल हो गए थे। फरवरी 2020 में सिंध के रोहरी स्टेशन के पास एक बस के एक ट्रेन की चपेट में आने से 19 लोगों की मौत हो गई थी। (एजेंसी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »