NIA ने पश्चिम बंगाल विस्फोटक जब्ती मामले में सातवें आरोपी को किया गिरफ्तार

NIA

File Photo

नई दिल्ली. राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने पश्चिम बंगाल में विद्युत चालित और गैर-विद्युत चालित डेटोनेटर और विस्फोटकों का बड़ा जखीरा जब्त होने के मामले में सोमवार को एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

एजेंसी के एक प्रवक्ता ने बताया कि पश्चिम बंगाल में बीरभूम जिला निवासी मनोज घोष को बहादुरपुर से गिरफ्तार किया गया और पिछले साल जून से इस मामले में गिरफ्तार लोगों की कुल संख्या सात हो गयी है।

अधिकारी ने कहा कि घोष को पहले ही गिरफ्तार किये जा चुके तीन आरोपियों- रिंटू एसके, मिराजुद्दीन अली खान उर्फ मिराज और मीर मोहम्मद नुरुज्जमान उर्फ रोमियो उर्फ प्रिंस के खुलासों के आधार पर गिरफ्तार किया गया था। एनआईए मामले में 28 जून को मिराज और प्रिंस के खिलाफ आरोप पत्र दायर कर चुकी है।

प्रवक्ता ने कहा, “घोष की पहचान एक अवैध खनिक के रूप में हुई है, जिसे रिंटू एसके जिलेटिन, डेटोनेटर और अमोनियम नाइट्रेट की आपूर्ति करता था।” उन्होंने बताया, “गत 28 जून को उसके अवैध गोदाम पर छापेमारी में एक पिस्तौल, कारतूस, 16.25 किलोग्राम जिलेटिन छड़ें (कुल संख्या 130) और 50 किलोग्राम अमोनियम नाइट्रेट से भरा एक बोरा जब्त किया गया था।”

एसटीएफ, पश्चिम बंगाल के एक दल द्वारा बीरभूम के मोहम्मद बाजार थाना क्षेत्र में एक गाड़ी से करीब 81,000 विद्युत चालित डेटोनेटर जब्त होने के बाद मामला दर्ज किया गया। प्रवक्ता ने बताया कि गाड़ी चालक आशीष केवड़ा को भी गिरफ्तार किया गया और बाद में हुई तलाशी में एक अवैध गोदाम से 2,525 विद्युत चालित डेटोनेटर, 27,000 किलोग्राम अमोनियम नाइट्रेट और 1,625 किलोग्राम जिलेटिन की छड़ें जब्त की गयीं।

इन जैसी अधिक खबरें पढ़ने अख्बार365 पर लोग ऑन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »