Gyanvapi में सर्वे का आज 5वां दिन, खुलेगा ‘तहखाने’ का रहस्य, मुस्लिमों की एंट्री बैन करने पर HC में सुनवाई

Gyanvapi-Mosque

File Pic

नई दिल्ली. जहां एक तरफ वाराणसी (Varanasi) के ज्ञानवापी परिसर (Gyanvapi) में आज सर्वे का पांचवां दिन शुरू है। वहीं भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण यानी ASI की टीमें अब से कुछ देर पहले यानी सुबह 8 बजे से अपने सर्वे में जुट चुकी हैं। वहीं दूसरी ओर ज्ञानवापी परिसर में गैर-हिन्दुओं के प्रवेश को रोकने के लिए आज यानी 8 अगस्त को इलाहाबाद HC में एक याचिका दाखिल की गई है, जिसपर आज सुनवाई होगी।

गौरतलब है कि, इस दायर जनहित याचिका में यह मांग की गई है कि श्रृंगार गौरी केस में जब तक वाराणसी की अदालत का फैसला नहीं आ जाता, तब तक परिसर में गैर हिंदुओं का प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित किया जाए। इस याचिका में ये भी आवेदन किया गया है कि ज्ञानवापी परिसर में मिले हिंदू प्रतीक चिन्हों को संरक्षित रखने का त्वरित आदेश दिया जाए। कोर्ट से ये भी मांग की गई है कि इस तरह की व्यवस्था की जाए, जिससे ज्ञानवापी में ASI सर्वेक्षण का काम प्रभावित न हो।

ASI द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के वैज्ञानिक सर्वेक्षण पर हिंदू पक्ष के वकील सुधीर त्रिपाठी ने आज कहा कि, सर्वे आज सुबह 8 बजे शुरू होगा।ऐसा लगता है कि गुंबद का सर्वे पूरा नहीं हुआ है। ‘तहखाना’ का भी सर्वे हो रहा है। हालांकि बिना मलबा हटाए फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी यहां संभव नहीं। तो वहीं ASI द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के वैज्ञानिक सर्वेक्षण पर हिंदू पक्ष की याचिकाकर्ता रेखा पाठक कहती हैं कि, “आज ‘तहखाना’ खुल सकता है।हम सर्वेक्षण को लेकर बहुत उत्साहित हैं। सुबह उठना और ड्यूटी पर जाना हमारी दिनचर्या बन गई है।हमारा काम निगरानी करना है।सर्वे सुबह 8 बजे शुरू होगा और शाम 5 बजे तक चलेगा।”

जानकारी दें कि, बीते गुरूवार को इलाहाबाद HC ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वे के खिलाफ अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद कमेटी की याचिका को खारिज कर दी थी। इस बाबत अदालत ने यह भी साफ़ किया था कि, इस निर्णय के साथ जिला अदालत का सर्वेक्षण संबंधी पुरानी आदेश तत्काल प्रभावी हो गया है। वहीं कमेटी ने बीते 21 जुलाई के वाराणसी के जिला अदालत के आदेश को HC में चुनौती दी थी, जो बीते गुरूवार को खारिज कर दिया गयी और जिसके बाद ASI ने अपना सर्वे शुरू कर दिया है,जिसका आज पांचवा दिन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »