देखे विडिओ तेलंगाना: जंगल Forest में फंसे 160 पर्यटकों को सुरक्षित निकाला गया; IAF ने नैनपाका गांव से 6 लोगों को किया एयरलिफ्ट

IAF airlifted 6 people from Nainpaka village

हैदराबाद. तेलंगाना में भारी बारिश का सिलसिला जारी है। बारिश के कारण नदी-नालों और अन्य जल निकायों के उफान पर होने के कारण राज्य के निचले क्षेत्र जलमग्न हो गये हैं जबकि कई इलाकों में सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं। इस बीच भारतीय वायुसेना ने गुरुवार को बाढ़ से प्रभावित नैनपाका गांव में जेसीबी के ऊपर फंसे छह लोगों को हेलीकॉप्टर की मदद से बचा लिया। वहीं, मुलुगु जिले में एक झरने के पानी की तेज धारा को पार नहीं कर पाने से जंगल में फंसे 160 पर्यटकों को राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने सुरक्षित निकाल लिया।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पर्यटक बुधवार को मुलुगु जिले में मुत्यमधारा झरना देखने गए थे और वहां फंस गए क्योंकि कुछ दिन पहले बारिश होने के कारण पानी बहुत तेज गति से बह रहा था। पर्यटक पानी की तेज धारा को पार नहीं कर पा रहे थे। इस बारे में सूचना मिलने के बाद राज्य के पंचायत राज मंत्री एर्राबेल्ली दयाकर राव, महिला एवं बाल कल्याण मंत्री सत्यवती राठौड़ और पर्यटन मंत्री वी श्रीनिवास गौड़ ने अधिकारियों से उन्हें सुरक्षित निकालने के संबंध में बातचीत की।

एनडीआरएफ दल, पुलिस दल और वन विभाग के कर्मचारियों समेत अन्य लोग बुधवार देर रात पर्यटकों तक पहुंच गए। गुरुवार सुबह लगभग चार बजे लगभग 160 पर्यटकों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया और वेंकटपुरम गांव लाया गया। इसके बाद पर्यटकों को उनके गंतव्य के लिए रवाना कर दिया गया।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि अधिकारियों की अनुमति के बिना वन क्षेत्रों में इस मौसम में झरनों के पास घूमना लोगों के लिए सुरक्षित नहीं है। तेलंगाना में भारी बारिश जारी है, जिससे निचले इलाकों में पानी भर गया है। भद्राचलम में गोदावरी नदी में जल स्तर 50.50 फुट पहुंचने के बाद बाढ़ की दूसरी चेतावनी जारी कर दी गई है। गोदावरी नदी के लिए यहां तीसरा और अंतिम बाढ़ चेतावनी स्तर 53 फुट है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि जिला कलेक्टर प्रियंका आला ने लोगों से स्थिति सामान्य होने तक यात्रा योजना स्थगित करने और घर पर ही रहने का आग्रह किया है। (एजेंसी इनपुट के साथ)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »