पशुपति कुमार पारस ने हाजीपुर सीट चिराग पासवान के लिए नहीं छोड़ने का किया ऐलान, कहा- उसकी कोई हैसियत नहीं

Pashupati Kumar Paras and Chirag Paswan

पटना. केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस ने रविवार को कहा कि वह भतीजे चिराग पासवान के लिए अपनी हाजीपुर लोकसभा सीट नहीं छोड़ेंगे। दिवंगत राम विलास पासवान ने दशकों तक इस निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था। चिराग ने हाल में कहा है कि उनकी पार्टी ‘निसंदेह’ हाजीपुर से लोकसभा चुनाव लड़ेगी।

केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री ने दावा किया कि वह पहले से ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में हैं, लेकिन 18 जुलाई को गठबंधन की बैठक में भाग लेने के लिए भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से निमंत्रण मिलने के बावजूद चिराग इसमें शामिल होने को लेकर असमंजस में थे।

भतीजे चिराग द्वारा संसदीय क्षेत्र में शनिवार को आयोजित एक सार्वजनिक बैठक के बारे में पूछे जाने पर पारस ने संवाददाताओं से कहा, “उनकी (चिराग) हाजीपुर में कोई हैसियत नहीं है। मुझे आश्चर्य है कि वह अपना समय वहां क्यों गंवा रहे हैं।”

एक टेलीविजन साक्षात्कार में पारस ने चिराग के इस हालिया दावे को परोक्ष रूप से खारिज किया कि दिवंगत पासवान चाहते थे कि वह (चिराग) हाजीपुर से चुनाव लड़ें और कहा कि “2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान मेरे बड़े भाई जीवित थे जब मैंने पहली बार सीट से चुनाव लड़ा था।”

केंद्रीय मंत्री ने दावा किया, “मैं अपने बड़े भाई की आज्ञा का पालन करने के लिए मैदान में उतरा। मैं दिल्ली नहीं जाना चाहता था। मैं राज्य में मंत्री बनकर खुश था, लेकिन दिवंगत पासवान ने कहा कि वह मुझे अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी के रूप में देखते हैं।”

उन्होंने इस बात पर भी आश्चर्य जताया कि जिस जमुई का चिराग लगातार दूसरी बार प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, वहां उन्हें किस बात की समस्या है। पारस ने कहा, “उनके (चिराग) निर्वाचन क्षेत्र के लोग दूसरी सीट से लड़ने के इरादे से निराश होंगे। मैं, अपनी ओर से, हाजीपुर सीट नहीं छोड़ूंगा।”

इन जैसी अधिक खबरें पढ़ने अख्बार365 पर लोग ऑन करें। अब आपकी भाषा में ख़बरें पढ़े। मेनू में जा के अपनी भाषा चुने।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »