महाराष्ट्र: यवतमाल जिले में भारी बारिश, बाढ़ में फंसे 45 लोगों को बचाने के लिए वायुसेना का हेलीकॉप्टर रवाना

Yavatmal Floods

PTI Photo

यवतमाल. महाराष्ट्र (Maharashtra) के यवतमाल (Yavatmal) में भारी बारिश के चलते बाढ़ जैसे हालात है। कई घरों में पानी घुस गया है। यहां एक घर की दीवार गिरने से 2 लोगों की मौत हो गई है। जिले के महागांव तालुका के आनंदनगर गांव में बाढ़ में फंसे 45 लोगों को बचाने के लिए नागपुर से भारतीय वायुसेना के Mi-17 V5 हेलीकॉप्टर को बुलाया गया है। कई जगहों पर SDRF की टीमें भी तैनात हैं।

नागपुर के रक्षा पीआरओ, विंग कमांडर रत्नाकर सिंह ने कहा, “जिला प्रशासन की मांग के आधार पर, यवतमाल जिले में बाढ़ के कारण फंसे 40 लोगों को निकालने के लिए नागपुर से एक एमआई-17 वी5 हेलीकॉप्टर शामिल किया जा रहा है।”

उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट में कहा, “यवतमाल जिले के महगांव तालुका के आनंदनगर तांडा में बाढ़ के पानी के कारण करीब 45 लोग फंसे हुए हैं। हम लगातार स्थानीय प्रशासन के संपर्क में हैं और अब एक घंटे के भीतर भारतीय वायु सेना के 2 हेलीकॉप्टर नागपुर पहुंचेंगे और फंसे हुए नागरिकों को निकालने के लिए तुरंत महागाव के लिए रवाना होंगे। यहां करीब 231 मिमी बारिश हुई है। मेरे सहयोगी मदनभाऊ येरावर भी संपर्क में हैं। हम स्थिति पर नजर रख रहे हैं।”

Yavatmal Floods

यवतमाल में शुक्रवार रात हुई भारी बारिश से जिले के कई रिहायशी इलाके जलमग्न हो गए। कई घरों में पानी घुस गया है। इस संबंध में जिलाधिकारी अमोल येडगे ने बताया कि प्रभावित क्षेत्रों से लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है तथा शहर में स्थिति नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि शहर में शुक्रवार रात से 117.5 मिलीमीटर वर्षा हुई है। उन्होंने बताया कि राज्य आपदा मोचन बल की एक टीम आनंदनगर गांव में बचाव अभियान चलाने के लिए रवाना की गई है।

यह भी पढ़ें

Yavatmal Floods

स्थानीय लोगों के अनुसार, रात में लगभग चार घंटे तक बारिश हुई। सड़कों पर पानी भर गया और बारिश का पानी उनके घरों में घुस गया। जिसके चलते हमारे घरों का फर्नीचर राशन सहित पानी में डूब गया है। स्थानीय लोगों के मुताबिक यवतमाल में पहले इतनी बारिश नहीं हुई थी। पानी सुबह 4 बजे लोगों के घरों में घुसना शुरू हुआ और अब तक 500 से अधिक घर जलमग्न हो चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »