नोर्थ कोरिया ने अमेरिकी जासूसी विमान को नाकाम किया, किम जोंग उन की बहन का दावा, ‘चौकाने वाले’ परिणाम की चेतावनी

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन की प्रभावशाली बहन किम यो जोंग ने अमेरिकी जासूसी विमान को उत्पीड़न का आरोप लगाया और सख्त चेतावनी जारी की है। उसके अनुसार, उत्तर कोरिया के युद्धविमानों ने उसके विशेष आर्थिक क्षेत्र के ऊपर घुसपैठ करने वाले एक अमेरिकी जासूसी विमान को सफलतापूर्वक रोक दिया। उसने ताने में कहा कि अगर संयंत्रणा गतिविधियों को जारी रखा जाता है तो अमेरिका को “चौंकाने वाले” परिणामों का सामना करना पड़ेगा।

किम यो जोंग का यह जवाब उत्तर कोरिया के अमेरिकी जासूसी विमानों के खिलाफ चेतावनी और कोरियाई उपनिवेश के पास एक नभिज्ञ किनारे पर नवीनीकरण की निंदा के बाद आया।

उत्तर कोरिया के रक्षा मंत्रालय ने यह बयान जारी किया था जिसमें उसने अमेरिका को अपने “अछूते आकाशगंगा” में जासूसी विमानों के आने का आरोप लगाया और चेतावनी दी कि किसी भी आपातकालीन विमान को नष्ट किया जा सकता है।

इसके प्रतिक्रिया के रूप में, दक्षिण कोरिया की संयुक्त प्रमुख स्टाफ ने इन बयानों का खंडन करते हुए कहा कि अमेरिकी जासूसी विमानों ने उत्तर कोरियाई भूमि पर उड़ान नहीं भराई है। प्रवक्ता ली संग जून ने ब्रीफिंग के दौरान स्पष्ट किया कि अमेरिका सामान्य जासूसी गतिविधियों को दक्षिण कोरिया की सेना के साथ समन्वय में कर रहा है।

प्रकट होने वाले बयान के उत्तर के रूप में, किम ने दक्षिण कोरियाई संयुक्त प्रमुख स्टाफ को अमेरिकी सेना के लिए एक “प्रवक्ता” की भूमिका मानने के आरोप लगाए। उसने और आरोप लगाए कि अमेरिका ने अपनी संयंत्रणा गतिविधियों को बढ़ाया है, जिससे वह उत्तर कोरिया की संप्रभुता और सुरक्षा को ध्वस्त कर रही है।

यद्यपि उत्तर कोरिया के रक्षा मंत्रालय के बयान में ऐसा सूचित किया जाता है कि यह देश के भू-वायुमंडल में प्रवेश का इंसानियत धारण कर रहा है, किम ने साफ किया कि अमेरिका ने उत्तर की विशेष आर्थिक क्षेत्र पर जासूसी विमान तैनात किए हैं। यह क्षेत्र उत्तर कोरियाई भूमि से 200 समुद्री मील तक फैलता है और यह उत्तर कोरिया को प्राकृतिक संसाधनों के अधिकारों को प्रदान करता है।

किम के मुताबिक, एक अमेरिकी जासूसी विमान ने सोमवार को प्रात: 5 बजे लगभग दोनों कोरियों के बीच पूर्वी सागरीय सीमा पार की और उत्तर की विशेष आर्थिक क्षेत्र के ऊपर जासूसी गतिविधियों को आयोजित कीया। उसने कहा कि अमेरिकी विमान ने पुन: सोमवार को लगभग 8:50 बजे पूर्वी सागरीय सीमा को पार किया, जिसके कारण उत्तर कोरिया की सेना ने अमेरिका को अनिर्दिष्ट “मजबूत चेतावनी” दी है।

इन जैसी अधिक खबरें पढ़ने अख्बार365 पर लोग ऑन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »