देश में प्रयागराज स्टेशन Station के पुनर्विकास पर होंगे सबसे ज्यादा 960 करोड़ रुपये खर्च

modi

Pic: Social Media

प्रयागराज, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को देशभर के जिन 508 रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास कार्य की आधारशिला रखी, उनमें से प्रयागराज स्टेशन के पुनर्विकास पर सबसे अधिक 960 करोड़ रुपये खर्च होंगे। ‘अमृत भारत स्टेशन योजना’ के तहत जिन 508 रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास किया जा रहा है, उनमें से 55 स्टेशन उत्तर प्रदेश के हैं। वर्ष 2025 के महाकुंभ को देखते हुए प्रयागराज स्टेशन का कायाकल्प किया जा रहा है, जिसके तहत इस रेलवे स्टेशन के दोनों ओर आठ मंजिला स्टेशन भवन का निर्माण शामिल है।

प्रयागराज जंक्शन परिसर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उत्तर-मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) हिमांशु शेखर उपाध्याय ने बताया कि देश में सबसे अधिक 960 करोड़ रुपये का निवेश प्रयागराज स्टेशन के पुनर्विकास पर किया जाएगा। उपाध्याय के मुताबिक, “प्रयागराज स्टेशन के पुनर्विकास का कार्य वृहद होने के कारण इसे दो चरणों में पूरा किया जाएगा। प्रथम चरण में कुंभ मेले से पहले सिविल लाइंस क्षेत्र के विकास का लक्ष्य रखा गया है।

वहीं, कुंभ मेला संपन्न होने के बाद बाकी कार्य पूरा किया जाएगा।” उन्होंने बताया कि प्रयागराज स्टेशन के दोनों ओर आठ मंजिला स्टेशन भवन का निर्माण किया जाएगा, जिसमें शुरुआती तीन मंजिल पर रेल कार्यालय और यात्री सुविधाओं, जबकि ऊपर की मंजिल पर वाणिज्यिक विकास का प्रावधान किया जाएगा। उपाध्याय के अनुसार, प्रयागराज रेलवे स्टेशन पर 72 मीटर चौड़े दो ‘कॉनकोर्स’ भी बनाए जाएंगे, जिनमें 9,000 यात्रियों के बैठने के साथ ही खाने-पीने के स्टॉल और बच्चों के मनोरंजन की भी व्यवस्था होगी।

उन्होंने बताया कि उत्तर-मध्य रेलवे के प्रयागराज मंडल के अंतर्गत 15 स्टेशन का पुनर्विकास किया जाना है, जिनमें विंध्याचल, फतेहपुर, पनकी धाम, मिर्जापुर, गोविंदपुरी, मानिकपुर, टूंडला, इटावा, अनवरगंज, फिरोजाबाद, चुनार, खुर्जा, शिकोहाबाद, मैनपुरी और सोनभद्र स्टेशन शामिल हैं। कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह, कौशांबी के सांसद विनोद सोनकर, फूलपुर के सांसद केशरी देवी पटेल, उत्तर-मध्य रेलवे के महाप्रबंधक सतीश कुमार और रेलवे के अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »