दिल्ली में एक हफ्ते में डेंगू के 27 मामले आए सामने, मेयर शैली ओबेरॉय ने दिए सफाई के निर्देश

दिल्ली में एक हफ्ते में डेंगू के 27 मामले आए सामने, मेयर शैली ओबेरॉय ने दिए सफाई के निर्देश

नई दिल्ली. दिल्ली में बाढ़ और जलभराव के चलते कई तरह की बीमारियों का संकट भी गहरा रहा है। यहां लगातार डेंगू का खतरा बढ़ता जा रहा है। इस हफ्ते में यहां डेंगू के 27 मामले सामने आए हैं। वहीं, इस साल कुल 163 डेंगू के मामले सामने आ चुके हैं। ऐसे में प्रशासन ने बीमारियों से निपटने के लिए प्लान तैयार किया है। दिल्ली की मेयर शैली ओबेरॉय ने शहर के अस्पतालों का निरीक्षण किया। साथ ही मच्छरों के प्रजनन को रोकने और बाढ़ से जमा हुए गाद और कीचड़ को साफ करने के लिए संबंधित विभागों को निर्देश जारी किए गए हैं।

डेंगू और मलेरिया के मामले बढ़ने की आशंका के बीच महापौर ने समीक्षा बैठक भी की। उन्होंने कहा कि कई इलाकों में पानी भर गया है, लेकिन स्थिति में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। शैली ओबेरॉय ने संवाददाताओं से कहा, “अब चिंता की बात यह है कि बाढ़ के कारण पिछले साल की तुलना में डेंगू और मलेरिया के अधिक मामले सामने आने की आशंका है। सभी संबंधित विभागों को कचरा और गाद साफ करने तथा मच्छरों के प्रजनन को नियंत्रित करने के लिए अभियान चलाने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।”

इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली सरकार के सभी विभागों को राष्ट्रीय राजधानी में बाढ़ के बाद की स्थिति पर लगातार निगरानी रखने का निर्देश दिया गया है। दिल्ली सरकार के एक अस्पताल के दौरे के दौरान पत्रकारों से बातचीत के दौरान भारद्वाज ने यह भी कहा कि ज्यादातर राहत शिविरों से लोगों की आंखों में जलन और त्वचा में एलर्जी होने के मामले सामने आ रहे हैं। 

भारद्वाज ने कहा कि यमुना नदी के जलस्तर में वृद्धि को लेकर कहा कि पिछले दो दिन में उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में बारिश हुई है और अब नालों का पानी भी नदियों में जा रहा है इसलिए उसका जल स्तर थोड़ा बढ़ गया है। दिल्ली में यमुना नदी का जल स्तर सोमवार को थोड़ी वृद्धि के साथ 205.58 मीटर पर दर्ज किया गया जबकि एक रात पहले जल स्तर 205.52 मीटर पर था। उन्होंने कहा, “हमने हथिनीकुंड बैराज पर आंकड़े मांगे हैं।” यह नदी पिछले सप्ताह से उफान पर है और बुधवार को इसका जलस्तर 1978 में बने 207.49 मीटर के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 207.71 मीटर पर पहुंच गया था, जिससे दिल्ली के कई अहम हिस्सों में बाढ़ आ गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »