अगर दस्त Diarrhea से परेशान हो बच्चा, तो इन घरेलू उपायों से मिलेगी बड़ी राहत, घरबराएं नहीं, इन बातों का रखें ख़्याल

diarrhea, pneumonia children

Representational Photo 

नई दिल्ली: छोटे बच्चों का शरीर बहुद ही संवेदनशील होता है। इसलिए उन्हें बहुत जल्दी इंफेक्शन होने का चांस रहता है। हालांकि जो बच्चे मां का दूध पीते हैं उनमें 6 माहीने तक दस्त या किसी तरह का इंफेक्शन होने के चांस काफी कम होता है। लेकिन 6 महीने के बाद जब बच्चा ठोस आहार लेने लगता है तो दस्त लगने की आशंका काफी बढ़ जाती है।

अगर आपके लाडले या लाडली को इंफेक्शन के कारण डायरिया हो जाए तो बिलकुल भी न घबराएं। ऐसी कंडीशन में उन्हें आप खास चीजें खिला-पिला सकते हैं। आइए जानें वो फूड आइटम्स कौन-कौन से हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार, दही में गुड बैक्टरीयाज पाए जाते हैं, ये एक प्रोबायोटिक फूड है, जो पेट की गड़बड़ियों को दूर कर सकता है, बच्चे को डायरिया हो जाए तो उसे दही में भूना हुआ जीरा मिक्स करके खिला दें, ऐसा करने पर जल्द आराम मिलेगा।

किसी को भी दस्त लगने की समस्या होने पर नमक-चीनी का घोल पीने की सलाह दी जाती है। ठीक उसी तरह बच्चों को दस्त होने पर भी आप नमक-चीनी (Salt Sugar Water) वाला पानी दे सकते हैं। यह एक तरह का इलेक्ट्रोलाइट होता है, जिससे शरीर हाइड्रेट रहता है। इससे दस्त बहुत जल्दी बंद हो जाते हैं। ऐसे में अगर आपके शिशु को दस्त की समस्या है तो आप उसे नमक और चीनी के पानी दे सकते हैं।

आप शिशु को दस्त लगने पर चावल का पानी (Rice Water) भी दे सकते है। इससे त्वचा हाइड्रेट रहती है और बच्चे के दस्त को रोकने में भी काफी मदद मिलती है। चावल का पानी पिलाने शिशु को बार-बार पॉटी नहीं आती। बच्चे को आप मसूर की दाल का सूप (Masoor Dal Soup) भी दे सकते है। मसूर की दाल का पानी या सूप पीने से बच्चे की दस्त की समस्या जल्दी ठीक हो जाती है।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर आपका बच्चा ठोस आहार लेने लगा है तो आप दस्त की समस्या होने पर केला (Banana) खिला सकते हैं। केला एक फाइबर रिच फूड है। हालांकि बच्चे को केला खिलाते समय ध्यान रखें कि केला अच्छी तरह से पका हुआ होना चाहिए। कच्चा केला खिलाने से दस्त ठीक होने के बजाय तकलीफ और बढ़ सकती है। केले से बच्चे को ज़रूरी विटामिन्स और मिनरल्स मिलते हैं। आप शिशु को केले की प्यूरी बनाकर भी दे सकते हैं।

शिशु को दस्त की समस्या होने पर आप उसे नींबू पानी भी दे सकते हैं। ये काफी अच्छा और असरदार घरेलू उपाय हैं। नींबू पानी से बच्चा हाइड्रेट रहता है और नींबू शरीर के टॉक्सिंस बाहर निकालने में मदद करता हैं। आप चाहें तो नींबू पानी में थोड़ा शहद भी मिला सकते हैं। विटामिन-C  से भरपूर नींबू बच्चे की इम्यूनिटी भी मजबूत करता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »