डायबिटीज के अलावा इन बीमारियों के इलाज के लिए बड़े काम के हैं बेल के पत्ते, ज़रूर जानें

डायबिटीज के अलावा इन बीमारियों के इलाज के लिए बड़े काम के हैं बेल के पत्ते, ज़रूर जानें

नई दिल्ली: सनातन धर्म में बेलपत्र का विशेष महत्व है। भगवान शिव जी को बेलपत्र अति प्रिय है। शैव संप्रदाय समेत सभी श्रद्धालु भगवान शिव जी को मनाने और रिझाने के लिए बेलपत्र से उनकी पूजा आराधना करते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव जी की बेलपत्र से पूजा करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

क्या आप जानते हैं कि बेलपत्र का सिर्फ धार्मिक महत्व ही नहीं है, बल्कि स्वास्थ्य की दृष्टि से भी बेलपत्र काफी फायदेमंद होता है। आयुर्वेद में भी बेलपत्र को औषधि के समान माना गया है।

जिसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। यह अपने सूजन-रोधी, एंटीऑक्सीडेंट, एनाल्जेसिक और एंटी स्पास्मोडिक गुणों के लिए जाना जाता है। यह क्रोनिक थकान, अस्थमा और गठिया सहित विभिन्न परेशानियों से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद कर सकता है। यह पाचन को भी उत्तेजित करता है और समग्र स्वास्थ्य के लिए टॉनिक की तरह कार्य कर सकता है। इसका उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा में सदियों से किया जा रहा है। यह सर्दी और बुखार सहित विभिन्न प्रकार की बीमारियों को दूर करने में मददगार होता है। आइए जानें बेल की पत्तियों का सेवन करने से शरीर को होने वाले लाभ-

एक्सपर्ट्स के अनुसार, बेलपत्र के सेवन से जहां पाचन में सुधार होता है और शारीरिक इम्यूनिटी भी ठीक होती है। बेलपत्र का सेवन करने से एसिडिटी, गैस, कब्ज और अपच जैसी दिक्कतें दूर होती है। वहीं, बवासीर के मरीजों को भी राहत मिलती है।

यह भी पढ़ें

बेलपत्र औषधीय गुणों से भरपूर होता है, जो डायबिटीज समेत कई बीमारियों को दूर कर सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि बेल की पत्तियां डायबिटीज से ग्रसित लोगों में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अतिरिक्त, बेल के पत्ते में एंटीऑक्सीडेंट पाया गया है, जो कोशिकाओं को उच्च रक्त शर्करा के स्तर से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद कर सकता है।

बेल के पत्तों में विटामिन-C की मात्रा भरपूर रूप से पाई जाती है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है। इससे बीमारियों और संक्रमणों से बचाने में मदद मिल सती है। इसमें जीवाणुरोधी, एंटीवायरल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं, जो संक्रमण से लड़ने और सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

चेहरे पर किसी भी प्रकार के दाग धब्बे, कील, मुंहासे की समस्या को दूर करने में बेलपत्र सक्षम है। इसके लिए बेलपत्र को पीसकर चेहरे पर फेस पैक की तरह लगाएं। कुछ समय बाद चेहरे को धो लें। इससे न केवल कील मुहांसे में आराम मिलता है, बल्कि चेहरे पर एक्स्ट्रा निखार आता है।

इन जैसी अधिक खबरें पढ़ने अख्बार365 पर लोग ऑन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »