गजब! ‘इस’ देश में है पत्नी को कंधे पर बिठाकर दौड़ने की प्रतियोगिता, जीतने में पर मिलता है ‘ये’ पुरस्कार

Image-Twitter

Image-Twitter

नई दिल्ली: जैसा कि हम सब जानते है, भारत के कुछ मंदिरों में आपने अक्सर कुछ लोगों को अपनी पत्नियों को भगवान के दर्शन के लिए उठाकर ले जाते हुए देखा होगा। लेकिन आपको बता दें कि फिनलैंड (Finland) में अपनी पत्नी को कंधे या पीठ पर बिठाकर दौड़ने की एक अनोखी प्रतियोगिता (Wife carrying world championships) ही जो सालों से चली आ रही है। जी हां आपको जानकर हैरानी होगी कि यहां पति अपनी पत्नी को कंधे पर बैठाकर दौड़ता है। आइए जानते हैं इस अनोखे खेल के बारे में… 

इस बारे में मिली जानकारी के मुताबिक, यह वाइफ कैरीइंग वर्ल्ड चैंपियनशिप 31 साल पुरानी है। जी हां दरअसल इस खेल की शुरुआत 1992 में सोनकाजर्वी, उकोनकांटो, फ़िनलैंड में हुई थी, जो आज भी बड़े पैमाने पर यहां ये स्पर्धा होती है। दरअसल यह परंपरा कब और कैसे शुरू हुई इसकी जानकारी अब तक नहीं मिली है। लेकिन इस स्पर्धा को लेकर लोग अलग-अलग कहानियां सुनाते हैं। पति द्वारा पत्नी को उठा ले जाने का खेल आज पूरी दुनिया में खेला जाता है। कई देशों में इसे खेल का रूप दे दिया गया है।  

दरअसल प्रतियोगियों को अपनी पत्नियों को अलग-अलग तरीकों से उठाने की अनुमति है। आमतौर पर एक पत्नी अपने पति के कंधे पर उल्टा लटकी हुई होती है। पति उन्हें कंधे पर उठाकर दौड़ता है। विजेता को पुरस्कार भी मिलता है जो भी यह रेस जीतता है उसे उसकी पत्नी के वजन के बराबर बीयर दी जाती है। यह गेम पूरी दुनिया में मशहूर हो गया है।

यह खेल ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, अमेरिका, भारत, हांगकांग और जर्मनी में खेला जाता है। वाइफ कैरीइंग चैंपियनशिप के कुछ नियम हैं। जिसके अनुसार पत्नी की उम्र 17 वर्ष से अधिक होनी चाहिए। तो उसका वजन कम से कम 49 किलो होना चाहिए। यदि पत्नी हल्की हो तो अधिकारी को भारी बैग दिया जाता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »