एशिया कप 2023 के शेड्यूल से नाखुश बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड, कहा- ‘खिलाड़ियों को हो सकता है मानसिक तनाव’

Bangladesh Cricket Board unhappy with the schedule of Asia Cup 2023, said- 'players may have mental stress'

नई दिल्‍ली: अगले महीने से एशिया कप 2023 (Asia Cup 2023) का आगाज होने वाला है। एशिया कप का शेड्यूल का भी एलान हो गया है। वहीं, अब इस शेड्यूल को लेकर बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (Bangladesh Cricket Board) ने नाराजगी जताई है। बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड (Bangladesh Cricket Board) के क्रिकेट ऑपरेशंस चेयरमैन जलाल यूनुस (Jalal Yunus) ने भी टूर्नामेंट के शेड्यूल को लेकर अपनी चिंता का इजहार कर दिया है। जलाल यूनुस का मानना है कि, एशिया कप के हाइब्रिड मॉडल में अत्यधिक यात्रा करने से खिलाड़ियों पर विपरीत असर पड़ सकता है।

मालूम हो कि, अगले महीने से शुरू होने वाले एशिया कप पाकिस्तान और श्रीलंका में खेला जाएगा। इस टूर्नामेंट के चार मैच पाकिस्‍तान में होंगे जबकि फाइनल सहित 9 मैच श्रीलंका में आयोजित होंगे। ऐसे में खिलाड़ियों को  अपने मैचों के लिए पाकिस्तान और श्रीलंका की यात्रा करनी होगी। 

यह भी पढ़ें

बांग्लादेश को ग्रुप बी में अफगानिस्तान और श्रीलंका के साथ रखा गया है। बांग्लादेश अपने पहला मैच 31 अगस्त को  श्रीलंका के खिलाफ खेलेगा। इस मैच के लिए बांग्लादेश की टीम को श्रीलंका की यात्रा करनी होगी। इसके बाद, बांग्लादेश को 3 सितंबर को अपने दूसरे ग्रुप मैच में अफगानिस्तान से भिड़ने के लिए पाकिस्तान जाना होगा।

एशिया कप के शेड्यूल को लेकर क्रिकबज ने जलाल यूनुस के हवाले से कहा, ‘हां, हमें पहला मैच खेलने के लिए लाहौर जाना होगा। पहले दौर में दो मैच हैं, इसमे एक श्रीलंका में और दूसरा पाकिस्तान में है। हमें जाना ही होगा क्योंकि आप इसमें कुछ नहीं कर सकते। 31 अगस्त के बाद अगला मैच 3 सितंबर को है। हम चार्टर्ड प्‍लेंस से यात्रा करेंगे, यह एशियान क्रिकेट काउंसिल की जिम्मेदारी है। निश्चित रूप से हम क्‍वालिटी एयरलाइन से यात्रा करना चाहेंगे।अगर यह एक नेशनल एयरलाइन या चार्टर्ड प्‍लेन है तो निश्चित रूप से यह सभी के लिए अच्छा होगा।’

जलाल यूनुस ने आगे कहा कि, ‘एयर ट्रैवल करना और उड़ानों से दो घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचना खिलाड़ियों को मानसिक तनाव में डाल सकता है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि, अन्य टीमों को इस शेड्यूल से सहमत है, ऐसे में बांग्लादेश को भी उसी के अनुसार तैयारी करनी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »